देवी माँ काली


मां काली या काली देवी मां दुर्गा के विभिन्न रूपों में से एक है । महाकाली का रूप सभी रूपों में सबसे ज्यादा भय प्रदान करने वाला माना जाता है । शब्द { काली } एक संस्कृत शब्द 'काल ' से आया है। काल से मतलब समय से है | वह अपने गुस्से के आगे किसी को नहीं देखती और अपने पति शिव पर खड़ी भी खड़ी दिखाई देती है |  देवी माँ कालीवह ऐसी देवी है जो अपने कूर रूप के बावजूद अपने भक्तो से एक प्यार का सम्बद्ध बनाये रखती है। इस सम्बन्ध में भक्त एक बेटे का रूप ले लेता है और माँ काली एक देखभाल करने वाली का रूप लेती है। कभी कभी माँ काली मौत की देवी भी मानी जाती है। पर दूसरे शब्दों में माँ काली बुराइयों और अहंकार की मौत लाती है। हिंदू शास्त्रों में , वह केवल अभिमानी राक्षसों को मारने के लिए जानी जाती है , लेकिन काली भी माँ का एक रूप मानी जाती है जो अपने बच्चो को सताने वाली बुराईयों का अंत करने वाली है | माँ काली कुछ देवी में से एक है जो ब्रह्मचारी और त्याग का पाठ कराती है।

माँ काली कैसी दिखती है ?

माँ काली का रूप सभी देवियों में से सबसे कट्टर माना जाता है। माँ के चार हाथ है ,एक हाथ में तलवार और एक एक हाथ में राक्षस का सिर ,यह सिर एक बहुत बड़े युद्ध का प्रतिनिधित्व है जिसमें माँ ने रक्तबीजा नाम के दानव का वध किया था। बाकी के 2 हाथ भक्तो को आशीर्वाद देने के लिए है और वह कहती है "डरो मत मैं हमेशा अपने भक्तो की रक्षा करती हूँ " .उनके पास कान की बाली के लिए दो मृत सिर है , गर्दन पर 52 खोपड़ी का एक हार, और दानव के हाथ से बना एक स्कर्ट है। उनकी जीभ उनके मुंह से बाहर रहती है और रक्त से सनी रहती है | उनकी ऑंखें लाल रहती है , और उनके चेहरे और स्तनों को खून लगा रहता है। कुछ चित्रों में वह एक पैर के साथ जांघ पे ठहरती है और दूसरा पैर अपने पति शिव के छाती पर रखती है। भगवान शिव जो निराकार जागरूकता सच्चिदानंद है और माँ काली सदा से शुद्ध का प्रतिनिदित्व करती है।

अम्बे तू है जगदम्बे काली -आरती    माँ काली भद्रकाली मंत्र

काली चालीसा पाठ    दुर्गा के मुख्य अवतार

नवदुर्गा बीज मंत्र